नई दिल्ली, 7 जून, 2021: अपनी ही दो साध्वियों से दुष्कर्म के आरोप में 20 साल की सजा काट रहा गुरमीत राम रहीम कोरोना संक्रमित हो गया है। इसके बाद राम रहीम को गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल लाया गया है। सूत्रों से खबर आ रही है कि गुरमीत राम रहीम से मिलने उसकी मुंहबोली बेटी हनीप्रीत भी पहुंची है। हालांकि,अस्पताल प्रशासन इसकी पुष्टि नहीं कर रहा है।

सूत्रों के अनुसार, हनीप्रीत सोमवार सुबह 8.30 बजे राम रहीम को देखने पहुंची। खबर की माने तो कि हनीप्रीत ने खुद को राम रहीम का अटेंडेंट तौर पर कार्ड बनवाया है। 15 जून तक हनीप्रीत को राम रहीम की देख भाल के लिए अटेंडेंट का कार्ड दिया गया है। इसके बाद हनीप्रीत हर दिन राम रहीम से मिलने उसके कमरे में जा सकती है। कोरोना की वजह से राम रहीम को रविवार दोपहर में मेदांता अस्पताल के कोविड वार्ड में भर्ती कराया गया है। तीन दिन पहले तबीयत खराब होने की वजह से उसे पीजीआइ रोहतक में भर्ती कराया गया था। वहां के डॉक्टरों की सलाह के बाद उसे मेदांता अस्पताल लाया गया। फिर कोरोना की जांच की गई, जिसमें उसका रिपोर्ट पॉजिटिव आया। उसे पैंक्रियाज में भी परेशानी है। अस्पताल की वरिष्ठ फिजिशियन डॉ. सुशीला कटारिया की निरक्षण में उसका इलाज चल रहा है।

कोरोना टेस्ट करवाने में कर रहा आनाकानी

सूत्रों से खबर आ रही है कि राम रहीम दवाई लेने और टेस्ट करवाने में भी आनाकानी कर रहा है। लेकिन अब ऐसा कहा जा रहा है कि संभव है कि राम रहीम कोरोना से जुड़ा आरटीपीसीआर टेस्ट करवाने के लिए राजी हो जाए, क्योंकि वह हनीप्रीत की बात मानते है। 53 साल का राम रहीम फिलहाल चंडीगढ़ से 250 किलोमीटर दूर रोहतक की हाई सुरक्षा वाली सुनारिया जेल में बंद है। पिछले दिनों पहले पेट दर्द की शिकायत के कारण रोहतक के पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (पीजीआईएमएस) में राम रहीम का जाँच हुआ था।

पैरोल मिलने के बाद कुछ दिनों से गुरुग्राम में राम रहीम

आपात पैरोल मिलने के बाद पिछले कुछ दिन पहले ही गुरमीत राम रहीम अपनी बीमार मां से मिलने के लिए गुरुग्राम पहुंचा। राम रहीम ने अपनी मां की बीमारी के संबंध में सुनरिया जेल अधिकारी को दस्तावेज पेश किए थे। जिसके बाद जेल अधिकारियों ने यह सूचना दी थी कि राम रहीम ने अपनी बीमार मां नसीब कौर से मिलने के लिये 21 दिन की पैरोल मांगी थी। पैरोल मिलने के बाद से राम रहीम गुरुग्राम में ही है।

उम्र भर जेल में रहना होगा राम रहीम को

बता दें कि राम रहीम के अलावा तीन अन्‍य दोषियों को भी पत्रकार रामचंद्र छत्र‍पति हत्‍या मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। उन पर 50-50 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। बाबा आशा राम की यह उम्रकैद की सजा साध्‍वी दुष्‍कर्म मामले में दी गई 20 साल की कैद पूरी होने के बाद शुरू होगी। यही कारण है राम रहीम को ताउम्र जेल में रहना होगा।