मध्य प्रदेश: प्राथमिक लक्षणों को पहचान कर शीघ्र उपचार प्रारंभ करें : खाद्य मंत्री सिंह

डिंडोरी, 10 मई 2021: अनूपपुर में कोविड नियंत्रण के क्षेत्र में बहुत अच्छा काम हुआ है, जिसका परिणाम है कि कोविड पॉजिटिविटी की दर 13.75 प्रतिशत है। खाद्य मंत्री श्री बिसाहूलाल सिंह ने अधिकारियों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि कोरोना पीडितों के प्राथमिक लक्षण के आधार पर उन्हें पहचान कर उन्हें मेडिकल किट आदि देकर उन्हें होम क्वारेंटाइन करायें। इस काम के लिए जिला, ब्लाक एवं ग्रामीण स्तर पर क्राइसेस मैनेजमेंट कमेटी का गठन किया जाए। अनूपपुर, शहडोल और सीधी जिले के कोविड प्रभारी एवं खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री श्री बिसाहूलाल सिंह आज अपने प्रभार के जिलों में अधिकारियों एवं जन-प्रतिनिधियों के साथ वर्चुअल चर्चा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि लगभग सभी जिलों में इन कमेटियों का गठन हो चुका है जहाँ नहीं हुआ है वहाँ एक दो दिन में इसे पूरा कर लें। उन्होंने कहा कि एसडीएम की अध्यक्षता में गठित इन कमेटियों में अन्य लोगों के साथ जन-प्रतिनिधियों को भी शामिल करें।

होम डिलेवरी की करें व्यवस्था
मंत्री श्री सिंह ने कलेक्टर सीधी से कहा कि सुबह 3 बजे से 5 बजे के बीच रोजमर्रा की दुकान पर काफी भीड जमा होने की शिकायत मिली हैं। यह गलत है इसे तुरंत रोके। कोविड गाईड लाईन का पालन करायें, जनता कफर्यू का कडाई से पालन करें। रोजमर्रा के उपयोग की वस्तुओं के लिए दो वार्डो के बीच एक दुकान से होम डिलेवरी की व्यवस्था करें।
जिले में ऑसीजन आपूर्ति की कमी की बात मंत्री जी के समक्ष लाई गई। उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन की कमी कहीं नहीं आने दी जायेगी। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान स्वयं कोविड की स्थिति पर पूरी तरह अपडेट हैं, उनसे इस विपय पर चर्चा कर शीघ्र ऑक्सीजन मुहैया कराई जायेगी। उन्हें बताया गया कि जिला और जनपद स्तर पर कमेटी का गठन हो चुका है। ब्लाक स्तर पर कार्रवाई जारी है, शीघ्र ही गठन कर लिया जाएगा!

गाँव-गाँव, घर-घर जाकर पहचानें प्राथमिक लक्षण वाले मरीज को मंत्री श्री सिंह ने कहा कि क्राइसेस कमेटी के सदस्य गाँव-गाँव में घर-घर जाकर देखें, पूछें कि कोई सर्दी, खाँसी या बुखार वाला मरीज हो तो उसे पहचान कर उसे मेडिकल किट उपलब्ध करायें। उसके घर में यदि व्यवस्था हो तो उसे एक अलग कमरे में होम क्वारेंटाइन करायें अन्यथा पास के कोविड केयर सेन्टर में उस शिफट करायें। यदि पेशेन्ट अपनी इच्छा से नहीं जाते तो डॉक्टर्स एवं पुलिस प्रशासन उसे शिफ्ट कराने की कारवाई करें।

चुरहट में लगेगा ऑक्सीजन प्लाँट स्थानीय विधायक ने बताया कि सीधी में ऑक्सीजन की कमी को स्थाई रूप से दूर करने के लिए  शीघ्र ही चुरहट में ऑक्सीजन प्लांट लगाने की कार्रवाई प्रचलन में है। इसके साथ ही सीधी के जिला चिकित्सालय में विधायक निधि से एग्जास्ट फैन की व्यवस्था भी की जा रही है, जिससे स्वस्थ ऑक्सीजन एवं वातावरण मरीजों को मिल सकेगा। सीधी में पॉजिटिविटी की दर में गिरावट आई है। यह दर 32 प्रतिशत से घटकर 27.91 प्रतिशत पर आ गई है। जबकि शहडोल में पॉजिटिविटी की दर 18.95 प्रतिशत है। मंत्री श्री सिंह ने कहा कि शहडोल में आज 500 ऑक्सीमीटर भिजवाए गए हैं, जो रविवार रात्रि तक पहुँच जायेंगे।

किल कोरोना अभियान प्रमुख सचिव ने दिये सुझाव

 जिले के प्रभारी एवं प्रमुख सचिव श्री सुखवीर सिंह ने कहा कि किल कोरोना टीम के सदस्य अपने साथ एक एम्बूलेंस रखें और ऐसे लोग जिनका गाँव स्तर पर ही इलाज चल रहा है, उन्हें कोरोना सेंटर में शिफ्ट करवा दें। ग्रामीण स्तर गठित कमेटी अपने साथ मेडिकल किट एवं पल्स ऑक्सीमीटर साथ रखें और चैक भी करते जाएं। जिन लोगों को मेडिकल किट वितरित की है उनके साथ प्रतिदिन 2 बार संवाद भी करें, जिससे उनकी स्थिति का अपडेट मिलता रहे।

 उन्होंने सुझाव दिया कि हमें प्रतिदिन कम से कम 1200 का टेस्टिंग का लक्ष्य रखना होगा। गाँव में जो डिस्पेंसरी काम कर रही हैं वो अपने स्तर से ही इलाज कर रहें हैं। उन्हें सख्त हिदायत दी जाए कि सर्दी जुकाम या खाँसी के लक्षण दिखें तो तुरंत कोरोना जाँच के लिए उन्हें रिफर करें। वे खुद अपना इलाज नहीं करें। केस बिगडने पर संक्रमण फैलने और जान जोखिम का खतरा ज्यादा होता है।

 उन्होंने कहा कि विशेषकर जनजाति संवर्ग में यह विश्वास पैदा करें कि वैक्सीजन जान बचाने के लिए है न कि जान जाने का इसमें खतरा है। कलेक्टर शहडोल ने बताया कि जिले के 112 गाँव ऐसे हैं जहाँ एक भी कोविड पेशेन्ट नहीं है। हमारा प्रयास है कि उस गाँव में कोई भी संक्रमित न हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *