दानापुर, 10 जून 2021: भारतीय रेल गुरूवार दिनांक 10 जून 2021 को अंतरराष्ट्रीय समपार फाटक दिवस मना रहा है। इस अवसर पर माननीय मंडल रेल प्रबंधक/दानापुर श्री सुनील कुमार के आदेशानुसार रेलवे फाटक को पार करने के संबंध मेें सुरक्षा के दृष्टिकोण से यात्रियों के लिये वरीय मंडल संरक्षा अधिकारी/दानापुर श्री आशीष कुमार आर्य ने संदेश (Audio Clip) जारी किये हैं जो दानापुर मंडल के प्रत्येक स्टेशन पर लगातार प्रसारण हो रहा है। जिसमें निम्नलिखित संदेश दिये जा रहे हैंः-

1) बिना चौकीदार वाले फाटक को सुरक्षित रूप से पार करना आपकी जिम्मेदारी है। अतः देखें, सुनें व सोच-समझकर कर गेट पार करें।

2) चौकीदार वाले फाटक में चौकीदार को डरा घमकाकर गेट खुलवाना अपनी व रेल यात्रियों की मौत को आमंत्रण देना है।

3) क्रॉंसिंग पर लगाया गया सिगनल यदि लाल हो अथवा बैरियर/फाटक गिरा हो तो बैरियर उठाकर उसके बगल से या किसी अन्य तरीके से रेल लाईन पार न करें।

4) रेलवे फाटक पार करने से पहले कृपया  रूकें, दोनों तरफ से देखें कि कोई रेल गाड़ी या ट्रॉली तो नहीं आ रही है फिर आगे बढ़ें।

5) पैदल या गाड़ी से रेलवे लाईन वहीं पार करें जहॉं अधिकृत रेलवे क्रॉसिंग हो।

6) रेलवे की पटरी कानों में ईयरफोन या मोबाईल लगाकर पार करना, अपनी जिन्दगी से खिलवाड़ करना है। अपने जीवन की कीमत पहचानें।

7) कृपया याद रखें कुछ पल का इंतजार हमारी जिन्दगी बचा सकती है। हमारे परिवार एवं बच्चों का भविष्य हमारे ही जीवन पर आश्रित है। अतः जीवन की रक्षा करें।

इसके अलावा भी संरक्षा संगठन दानापुर मंडल द्वारा अंतरराष्ट्रीय समपार फाटक दिवस पर यात्रियों के संरक्षा हेतु मंडल में विभिन्न शाखा के वरीय प्रशाखा अभियंता, प्रशाखा अभियंता, कनीय अभियंता, यातायात निरीक्षक, संरक्षा सलाहकार के द्वारा झाझा-डीडीयू, बख्तियारपुर-तिलैया, फतुहा-इस्लामपुर, दनियावां-बिहारशरीफ, किऊल-गया, पटना-गया, दिलदारनगर-ताड़ीघाट सेक्शन में अधिकतम 185 समपार फाटक पर सड़क यात्रियों को काउंसलिंग किया गया। रेल सुरक्षा बल और उनके आरक्षी/निरीक्षक के द्वारा अधिकतम दुर्घटना संभावित 17 समपार फाटक पर सड़क यात्रियों को काउंसलिंग किया गया।

वहीं विभिन्न शाखाओं के निरीक्षक/पर्यवेक्षक/संरक्षा सलाहकार के द्वारा अनाधिकृत क्रॉसिंग पर हैण्डबिल का वितरण, सेफ्टी पम्पप्लेट्स का पेस्टिंग तथा अनाधिकृत रूप से रेलवे लाईन पार करने वाले व्यक्तियों को कुल 35 स्थानों पर काउंसलिंग किया गया। आमजनों को जागरूक करने के लिये पूरे मंडल में 15,000 सेफ्टी हैण्डबिल का वितरण (दो प्रकार का) तथा 3,000 सेफ्टी पम्पप्लेट्स का पेस्टिंग (दो प्रकार का) किया गया।

इस अवसर पर मंडल रेल प्रबंधक सुनील कुमार ने बताया कि हमारे मंडल में अब कोई मानवरहित रेल फाटक नहीं है। सभी रेल फाटकों पर रेलवे गेटमैन उपलब्ध है। कभी-कभी ऐसा देखा जाता है कि कुछ लोग गेटमैन को डरा-धमकाकर जबरदस्ती अपनी गाड़ी और ट्रैक्टर को पार करते हैं और जिससे ट्रेन से दुर्घटना होने की संभावना बनती है। ऐसा करने से रेल यात्री एवं सड़क यात्री दोनों की जान जोखिम से भरा रहता है।

उन्होंने कहा कि कुछ जगह पर लोग अपनी गाड़ी को अनाधिकृत रूप से रेलवे लाईन पार करने की कोशिश करते हैं और इस क्रम में जब उनकी गाड़ी रेलवे लाईन पर फंस जाती है तो ट्रेन से दुर्घटना होने का कारण बनता है जिसमें उनकी जान भी चली जाती है। ऐसा करना न कि कानूनी अपराध है बल्कि अपनी जिन्दगी और रेल यात्री की जिन्दगी को दांव पर लगाना है। इस अवसर पर सभी आमजनों से मेरा आग्रह है कि सावधानी पूर्वक अधिकृत रेल फाटक से ही रेलवे लाईन को पार करें। बंद रेल फाटक के समय थोड़ा धैर्य रखकर रूकें और रेल फाटक खुलने पर ही पार करें। ऐसा करने से आपकी जिन्दगी सुरक्षित रहेगी।