नई दिल्ली: कोरोना की दूसरी लहर का सामना कर रहे भारत के लिए अच्छी खबर, निकल चूका है पीक, लेकिन अब भी खतरा बरकरार

नई दिल्ली, 12 मई, 2021: कोरोना की दूसरी लहर झेल रहे भारत के लिए एक राहत भरी खबर सामने आई है। लगातार चार दिनों तक भारत में कोरोना के 4 लाख से अधिक मामले सामने आने के बाद बीते दो दिनों से मामलों में गिरावट देखी जा रही है। इस महामारी को झेल रहे लोगों के लिए एक अच्छी खबर है। स्वास्थ मंत्रालय के अनुसार देश में पिछले 24 घंटे में 3,48,421 कोरोना के नए मामले सामने आए हैं। इसके आधार पर विशेषज्ञों का भी यही कहना है कि देश में कोरोना की दूसरी लहर का पीक अब निकल गया है। फरवरी से कोरोना के मरीजों की संख्या में तेजी आई थी।

सफदरजंग अस्पताल के कम्युनिटी मेडिकल डिपार्टमेंट के प्रमुख डॉक्टर जुगल किशोर के अनुसार देश में दूसरी लहर पीक अब खत्म हो चूका है। उनका यह कहना है कि अब मामलों में धीरे-धीरे गिरावट देखी जा रही है। उन्होंने ये भी कहा है कि राष्ट्रीय स्तर पर दूसरी लहर का पीक खत्म हो चूका है मगर राज्य स्तर पर ये अभी पूरी तरह से खत्म नहीं हुआ है। उनके हिसाब से कुछ राज्यों में दूसरी लहर का पीक आ चूका है लेकिन ऐसे भी राज्य है जहां अब भी इसका पीक आना बाकी है। लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर ये माना जा सकता है की ये दौर बीत चूका है, लेकिन खतरा पूरी तरह टला नहीं है।

तीसरी लहर आने की संभावना है या नहीं ये पूछने पर उन्होंने कहा कि कोई भी लहर वायरस के बदलते स्वरुप पर ही निर्भर करती है। यदि वायरस का म्युटेशन जारी रहा तो तीसरी लहर आने की संभावना है। उन्होंने इसकी दूसरी वजह भी बताई है, उन्होंने कहा कि जिन लोगों में अभी इम्युनिटी बनी है अगर वो कुछ समय के बाद खत्म हो जाती है तो भी इस संभावना को नकारा नहीं जा सकता है। उनका कहना है की इस दूसरी लहर में लगभग 50% आबादी इसकी चपेट में आई है।

लेकिन अभी भी कुछ लोग ऐसे है जो कोरोना के चपेट में नहीं आए हैं। तीसरी लहर में उन लोगों के भी संक्रमित होने की संभावना है। इसके अलावा नवजात बच्चे भी इसका शिकार हो सकते हैं। डॉक्टर किशोर के अनुसार तीसरी लहर की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है, मगर इसको रोका भी जा सकता है। इसके लिए तेजी से लोगों का वैक्सीनेशन करना आवश्यक है। डॉक्टर जुगल किशोर का कहना है कि तीसरी लहर को रोकने के लिए लोगों को ज्यादा जागरूक होना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *