उत्तर बस्तर कांकेर : जिल में 12 नवंबर को प्रातः 7 बजे...

उत्तर बस्तर कांकेर : जिल में 12 नवंबर को प्रातः 7 बजे से दोपहर 3 बजे तक मतदान : सभी मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करें- कलेक्टर

31
0

उत्तर बस्तर कांकेर 06नवम्बर 2018

जिले के तीनों विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के मतदान केन्द्रों में 12 नवंबर को प्रातः 7 बजे से दोपहर 3 बजे तक मतदान होगा। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्रीमती रानू साहू ने जिले के सभी मतदाताओं से उक्त दिवस को अनिवार्य रूप से मतदान करने की अपील किया है। उन्होंने कहा कि लोकतांत्रिक व्यवस्था में प्रत्येक व्यस्क नागरिक को मताधिकार प्राप्त है, सभी मतदाता मतदान दिवस को निर्धारित समय में मतदान केन्द्र में उपस्थित होकर अपने मताधिकार का प्रयोग करेें।
उल्लेखनीय है कि विधानसभा निर्वाचन में जिले के 5 लाख 20 हजार 18 मतदाताओं द्वारा अपने मताधिकार का प्रयोग किया जाएगा। तीनों विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों को मिलाकर जिले में 688 मतदान केन्द्र बनाया गया है। अंतागढ़ विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र में 207 मतदान केन्द्र एवं 01 लाख 59 हजार 129 मतदाता है, इनमें से 80 हजार 809 पुरूष मतदाता और 78 हजार 311 महिला मतदाता शामिल हैं। भानुप्रतापपुर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र में 256 मतदान केन्द्र तथा 01 लाख 90 हजार 573 मतदाता हैं, इनमें 92 हजार 857 पुरूष मतदाता और 97 हजार 711 महिला मतदाता हैं। कांकेर विधानसभा निर्वाचनक्षेत्र अंतर्गत 225 मतदान केन्द्र तथा 01 लाख 70 हजार 316 मतदाता है, इनमें 82 हजार 650  पुरूष मतदाता एवं 87 हजार 664 महिला मतदाता हैं, जिनके द्वारा विधानसभा निर्वाचन में अपने मताधिकार का प्रयोग किया जाएगा। उत्तर बस्तर कांकेर जिले के विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र भानुप्रतापपुर एवं कांकेर मंें महिला मतदाताओं की संख्या पुरूष मतदाताओं से अधिक है।

भारत निर्वाचन आयोग से अनुमोदन पश्चात उत्तर बस्तर कांकेर जिले के अतिसंवेदनशील 25 मतदान केन्द्रों को अन्य मतदान केन्द्रों में शिफ्ट किया गया है। इनमें अंतागढ़ विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के 15 मतदान केन्द्र एवं भानुप्रतापपुर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के 09 मतदान केन्द्र तथा कांकेर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के 01 मतदान केन्द्र शामिल है। जिला निर्वाचन कार्यालय द्वारा सुचारू रूप से मतदान संपन्न कराने के लिए पर्याप्त संख्या मे पुलिस बल की तैनाती की जा रही है। जिले के सभी मतदान दलों के अधिकारी कर्मचारियों को तृतीय एवं अंतिम प्रशिक्षण प्रदान किया जा चुका है।